Computer System की सभी Units | All Units of a Computer System

Computer कई प्रकार की Units से मिलकर बना होता है। जब सारी units को आपस में connect कर दिया जाता है तो जन्म होता है एक computer system का। इस computer system की help से हम different types के tasks को perform कर सकते हैं। 

Computers अपने shape, size और अपनी reliability तथा cost के आधार पर time-to-time change होते आये हैं। लेकिन आमतौर पर एक computer system किसी भी raw input data को useful information में convert करने के लिए पाँच basic functions को perform करता है। 

तो computer system के इन्ही पाँच basic functions के बारे में आज हम बात करने वाले है। तो आइए जानते है computer के पाँच बेसिक functions के बारे में या कह लीजिये की computer की main units के बारे में। 
All units of a computer system in Hindi. Components of computer in Hindi. 


All units of a computer system


Input Unit

यदि आपके पास कोई computer system है और आप उसमें किसी भी task को perform कराना चाहता हैं तो आपको सबसे पहले उस computer system में किसी भी data या instruction को enter करना होगा। 

किसी भी data या instruction को enter करने के लिए आपको ज़रूरत होती है input devices की।  input devices कई प्रकार की होती है जो की अलग-अलग instructions को enter करने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं। 


जैसे की यदि आपको Computer system में typing करनी है तो आप typing करने के लिए एक input device जो की है keyboard का इस्तेमाल कर सकते हैं। यहाँ यह बात समझने वाली है की जब आप किसी भी data या instruction को input devices के द्धारा enter करते हैं तब वह intruction binary code में convert हो जाती है क्योंकि comupter binary code की ही language को read कर सकता है। 


जब किसी भी प्रकार की instruction को input unit के द्धारा enter किया जाता है तो वह information binary code में convert हो जाती है और binary code में convert होने के बाद ही वह information storage unit में storage और processing के लिए supply होती है।

Input devices के तौर पर आप कई प्रकार की devices को इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे की Mouse, keyboard, joystick, light pen, scanners, cameras, microphone etc.


Output Unit 

जब आप किसी भी instruction या data को input devices के ज़रिये enter करते हैं तो वह information या डाटा हमें output devices के ज़रिये human readable form में show होता है। तो इस operation को output unit के द्धारा ही perform किया जाता है।

तब यह कहा जा सकता है की output unit जो है वह input unit के operation को ही reverse perform कराती है। 

Enter किये गए data या instruction को आप different types की output devices के ज़रिये प्राप्त कर सकते हैं। जैसे की कुछ output devices के नाम हैं monitor, printer, speaker, plotter etc.


Storage Unit

जब हम computer system में किसी भी data या instruction को entered करते हैं तब वह data या instruction processing होने से पहले computer system के अंदर stored होती है। और जब input यूनिट द्धारा entered किया गया data या instruction actual में process हो जाता है तब भी वह output unit पर show होने से पहले computer system के अंदर ही stored रहता है। 


तो यह कहा जा सकता है की storage unit कई प्रकार से अपने अंदर data या instruction को hold करके रखती है जैसे की यह input किये गए data को भी hold करके रखती है और intermediate results भी hold करके रखती है इनके अलावा यह output results को भी hold करके रखती है। 

सभी computer system की storage units को दो parts में divide किया गया है-

1. Primary storage 

2. Secondary storage 


Arithmetic Logic Unit (ALU)

आपने कई बार ALU का नाम सुना होगा। क्योंकि एक computer system सभी प्रकार के calculation और comparison operations को ALU के ज़रिये ही perform करता है। ALU की full Arithmetic Logic Unit है।  

आप इसको इस प्रकार से समझिये की जब एक computer किसी भी process को कर रहा होता है तब enterd की गयी instructions उस computer की primary storage unit में stored होती हैं। तो उन्ही stored instructions को ALU के पास logic operations को perform कराने के लिए भेजा जाता है। 


आमतौर पर किसी भी computer system की Arithmetic Logic Unit को चार basic arithmetic operations को perform करने के लिए design किया जाता है। ये चार basic arithmetic operations हैं add, subtract, divide and multiply. इन चार basic arithmetic operations के अलावा यह unit कुछ logic operations और comparisons जैसे की less than, greater than और equal to को भी perform करती है। 


Control Unit (CU)

वैसे तो computer की control unit किसी भी प्रकार की processing को perform नहीं करती है। परन्तु यह unit computer system के components के लिए central nervous system की तरह काम करती है।  इसको ऐसे समझिए की यदि आपने अपने computers system के साथ किसी input device को connect किया हुआ है तो तब वह input device यह कैसे confirm करेगी की entered किये गए data को कब storage unit में store करना है। तो इसको control करती है control unit .

इसके अलावा किसी  भी computer की control unit दिए गए निर्देशों और operations को manage  भी करती है।


Central Processing Unit (CPU)

ऊपर हमने ALU (Arithmetic Logic Unit) और CU (Control Unit) के बारे जाना है। परन्तु क्या आपको पता है की जब किसी भी computer system की ALU और CU को एक साथ जोड़ा जाता है तब उसे CPU (Central Processing Unit) का नाम दिया जाता है। 

यह भी आपने कई बार सुना होगा की CPU ही computer system का brain होता है। क्योंकि CPU ही computer system में सभी प्रकार के operations जैसी की calculations और comparisons को perform करता है। इसके अलावा CPU computer system की दूसरी units को activate और control भी करता है। 


Post a Comment

0 Comments